योगी सरकार के खिलाफ एक और बड़ी साजिश का पर्दाफाश,गाजियाबाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज

यूपी के विकास को पटरी से उतारने और सौहार्द बिगाड़ने को रचा गया षडयंत्र । अब गाजियाबाद में धर्मांतरण की अफवाह से जातीय संघर्ष की साजिश । एक बार ि‍‍फर एनसीआर और पश्चिम यूपी में दंगा कराने की थी साजिश ।हाथरस और मथुरा में भी रची गई थी योगी सरकार को बदनाम करने की साजिश ।

गाजियाबाद  । उत्‍तर प्रदेश को विकास की पटरी से उतारने और सांप्रदायिक दंगों की आग में झोंकने की एक और बड़ी साजिश रची गई थी । षडयंत्रकारियों के निशाने पर एक बार ि‍फर एनसीआर और पश्चिम यूपी था । इस बार गाजियाबाद में धर्मांतरण की अफवाह फैला कर दो समुदायों के बीच संघर्ष की साजिश को अंजाम देने का प्रयास किया जा रहा था । इस साजिश के जरिये षडयंत्रकारियों का लक्ष्‍य मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ की सरकार को बदनाम करने और प्रदेश के सौहार्दपूर्ण माहौल में जहर घोलने का था । समय रहते गाजियाबाद पुलिस ने पूरे मामले का खुलासा कर साजिशकर्ताओं के मंसूबों पर पानी फेर दिया ।

गाजियाबाद पुलिस ने मोन्‍टू वाल्‍मीकि की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। दर्ज एफआईआर के मुताबिक 21 अक्‍टूबर को साहिबाबाद थाने के गांव करेहडा में कुछ अज्ञात लोगों ने 230 लोगों के धर्मांतरण की झूठी अफवाह फैलाई गई । इससे संबंधित प्रमाण पत्र पूरी तरह से फर्जी और साजिशन तैयार किए गए हैं। इन दस्‍तावेजों में कोई नाम, पता, तिथि और जारी करने वाले का नाम भी नहीं है। दस्‍तावेजों पर कोई पंजीकरण संख्‍या भी दर्ज नहीं है।

एसपी सिटी ज्ञानेंद्र सिंह के मुताबिक कागजात पूरी तरह से फर्जी हैं । लोगों के बीच लाभकारी योजनाओं के फार्म बता कर कागजों को बांटा गया। इस पूरे मामले के पीछे प्रदेश में जातीय और धार्मिक दंगे कराने की साजिश रची गई है। जांच में जुटे पुलिस अधिकारियों का कहना है कि साजिशकर्ताओं ने ऐसे भोले भाले लोगों को निशाना बनाया जो पढ़े लिखे नहीं थे।

षडयंत्रकारी एनसीआर में इस कोशिश के जरिये पूरे प्रदेश में दो समुदायों के बीच संघर्ष कराने की साजिश को अंजाम तक पहुंचाने में जुटे थे। पुलिस का कहना है कि बहुत जल्‍द साजिशकर्ताओं को बेनकाब कर दबोच लिया जाएगा। गौरतलब है कि इस से पहले हाथरस और मथुरा में जा‍तीय संघर्ष की साजिश रच कर योगी सरकार को बदनाम करने का कुचक्र रचा गया था। इनकी जांच भी एसटीएफ और पुलिस की टीमें कर रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close