अग्रसेन पीजी कालेज में ऑनलाइन निबंध प्रतियोगिता का हुआ आयोजन

मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत सप्ताहव्यापी आयोजन 

वाराणसी। अग्रसेन कन्या पीजी कॉलेज में उत्तर प्रदेश शासन द्वारा संचालित मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत सप्ताहव्यापी (17 से 25 अक्टूबर 2020 तक) विविध कार्यक्रम आयोजित कर महिलाओं व छात्राओं को सशक्त बनने हेतू प्रेरित किया जा रहा है। इस आभियान के तहत मंगलवार को ऑनलाइन निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता में महाविद्यालय की छात्राओं ने उत्साह पूर्वक भागीदारी की। इस मौके पर सभी को बालिका सुरक्षा शपथ भी दिलायी गई।
मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत विगत 18 अक्टूबर को आयोजित वेबीनार के माध्यम से ‘‘महिला सुरक्षा एवं महिला सम्मान के प्रावधानों’’ के संदर्भ में जानकारी छात्राओं को दी गई। जहां डॉ धनंजय सहाय ने संविधान में दिए गए महिला सुरक्षा संबंधी अधिकारों पर प्रकाश डाला। वही डॉ मदन गोपाल ने मानसिक स्वास्थ्य पर विस्तृत व्याख्यान दिया। इसीक्रम में 19 अक्टूबर को ऑनलाइन वेबीनार के माध्यम से छात्राओं एवं महिलाओं को स्वास्थ्य संवर्धन एवं पोषण के प्रति जागरूक किया गया एवं कोविड-19 के दृष्टिगत रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकास के संबंध में जानकारी दी गई। इस मौके पर मुख्य वक्ता डॉ प्रतिमा त्रिपाठी ने संतुलित आहार योग व्यायाम एवं तनाव मुक्त जीवन को ही जीवन का मुख्य आधार बताया। वेबीनार के द्वितीय सत्र में छात्राओं को आपातकाल में आत्म सुरक्षा हेतु प्रशिक्षण के संदर्भ में जानकारी प्रदान की गई। इस मौके पर मुख्य वक्ता डॉ उषा बालचंदानी ने कहा कि मन के बंधनों के कारण हम अपनी शक्ति को भूल गए है, जरूरत है उस शक्ति को जागृत करने की। सुरक्षा के लिए बालिकाओं एवं महिलाओं को ताइकांडो, मार्शल आर्ट एवं स्वयं को बचाने का प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए। इस मौके पर सुरक्षा प्रशिक्षण देने के लिए आरंभ अकैडमी मार्शल आर्ट से गणेश प्रसाद विश्वकर्मा ने इसका डेमो भी दिया।
इस मौके पर महाविद्यालय के प्रबंधक अनिल कुमार जैन ने उत्तर प्रदेश शासन द्वारा संचालित ‘‘मिशन शक्ति अभियान’’ को महिला सुरक्षा के लिए जरूरी बताया और इससे हर महिलाओं, युवतियों व बालिकाओं को जोड़ने की अपील की। महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ कुमकुम मालवीय ने मिशन शक्ति अभियान के महत्व पर प्रकाश डाला। महाविद्यालय द्वारा आयोजित सप्ताह व्यापी मिशन शक्ति अभियान कार्यक्रम की संयोजिका प्राचार्या डॉ कुमकुम मालवीय एवं समन्वयक डॉ दुष्यंत सिंह (एसोसिएट प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष प्राचीन इतिहास) रहे। इस मौके पर डॉ अनीता सिंह, डॉ आभा सक्सेना, डॉ आकाश, डॉ पारितोष भट्टाचार्य, डॉ सुनील मिश्रा, डॉ रश्मि सिंह, डॉ पिंकी त्रिपाठी, डॉ संध्या ओझा, डॉ कमलेश दूबे, डॉ ज्योति सिंह, डॉ विनीता पाण्डेय का विशेष सहयोग रहा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close