राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम में शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी-जिलाधिकारी

राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम में शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी-जिलाधिकारी

अस्सी घाट, चितरंजन पार्क और चौक पर 24 घंटे एंबुलेंस सेवा की उपलब्धता के बाद अब राजघाट पर भी एंबुलेंस सेवा की होगी उपलब्धता

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बैठक आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति, मिशन इंद्रधनुष, फाइलेरिया उन्मूलन अभियान, आरोग्य मेला इत्यादि पर दिये विशेष निर्देश

वाराणसी जनवरी । जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा की अध्यक्षता में शनिवार को जिला स्वास्थ्य समिति की मासिक समीक्षा बैठक राइफल क्लब सभागार में हुआ। जिलाधिकारी ने विशेष रूप से आगामी मिशन इंद्रधनुष 2.0, पल्स पोलियो अभियान, फ़ाईलेरिया उन्मूलन अभियान, आरोग्य मेला, हैल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर स्वास्थ्य जांच अभियान के साथ-साथ बायो मेडिकल वेस्ट निस्तारण, आयुष्मान भारत योजना, राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम एवं अन्य विभागीय कार्यक्रमों की गहन समीक्षा करते हुये आवश्यक दिशा-निर्देश प्रदान किए। जिलाधिकारी ने चिकित्साधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देशित किया कि किसी भी राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम में शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। सभी को अपनी जिम्मेदारी और उत्तरदायित्वों का निर्वाहन बेहतर तरीके से करना होगा जिसकी नियमित समीक्षा की जाएगी।
जिलाधिकारी ने कहा कि शासन के निर्देशानुसार आगामी फरवरी माह से हर रविवार को हर सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर आरोग्य मेला का आयोजन किया जाए और इसमें विशेष रूप से स्वास्थ्य संबन्धित सभी जाँचें, निःशुल्क दवा वितरण, टीकाकरण, परिवार कल्याण सहित विभिन्न कार्यक्रमों पर परामर्श एवं जानकारी प्रदान करें। इनसे संबन्धित आठ से दस स्टाल लगाए जाएं तथा आयुष पद्धति के चिकित्सकों की सेवाएँ ली जाएँ। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि बायो मेडिकल वेस्ट का प्रबंधन बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट एक्ट के तहत किया जाए। सभी राजकिय चिकित्सालयों और पीएचसी/सीएचसी पर ईटीपी और अतिरिक्त पीएचसी पर ब्यूरियल पिट की क्रियाशीलता सुनिश्चित की जाए। आयुष्मान भारत योजना के तहत आशा एवं एएनएम को 100-100 गोल्डन कार्ड बनवाने का दायित्व सौंपा जाए। जनपद में लक्षित और चिन्हित लाभार्थियों के शत-प्रतिशत गोल्डन कार्ड जनवरी माह तक बना लिए जाएँ। मिशन इंद्रधनुष 2.0 अभियान की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि बनाई गयी ड्यू लिस्ट की ब्लॉक एवं जनपद स्तर पर गहन समीक्षा कर ली जाए। समीक्षा करते हुये यह सुनिश्चित कर लिया जाए कि नियमित टीकाकरण से लेफ्ट आउट या ड्रॉप आउट कोई भी बच्चा इस अभियान में छूटने न पाये। अभियान में लगाए गए सुपरवाईजरों का विशेष दायित्व निर्धारित किया जाए कि किसी क्रनवश सत्र स्थल पर नहीं आने वाले बच्चों को स्थानीय मोबालईजरों की मदद से सत्र स्थलों पर लाकर टीके लगवाएँ जाएँ। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि आगामी दिनों में संचालित किए जाने के राष्ट्रीय कार्यक्रमों के अलावा विभाग में संचालित विभाग में बावत जनसमुदाय तक आवश्यक जानकारी पहुँचने के लिए विशेष प्रयास किए जाएँ। निजी एवं सरकारी स्कूलों-कॉलेजों को भी इसमें सम्मिलित किया जाए। जनपद के सभी स्कूलों-कॉलेजों का एक-एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाया जाए और हर स्कूलों-कॉलेजों के एक-एक कोर्डिनेटर को उस ग्रुप में जोड़ा जाए। ग्रुप के माध्यम से कोर्डिनेटर को स्वास्थ्य शिक्षा से संबन्धित जानकारी उपलब्ध की जाए ताकि वह अपने स्कूल में आवश्यकतानुसार आधे घंटे का सत्र चलाकर बच्चों को जागरूक कर सकें। इसी प्रकार ग्राम प्रधान, पार्षद, धार्मिक एवं सामाजिक नेता, गैर सरकारी संगठनों का भी व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर जागरूकता कार्यक्रमों में सम्मिलित किया जाए। यह कार्य ब्लॉक स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारियों के माध्यम से सुनिश्चित किया जाए। जिलाधिकारी ने आगामी दिनों में जनपद के सभी हैल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर 30 वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्तियों के हाईपरटेंशन, शुगर, कैंसर एवं अन्य बीमारियों के स्क्रीनिंग अभियान के बावत निर्देशित किया कि यह सुनिश्चित कर लिया जाए कि उस क्षेत्र कर कोई भी लक्षित व्यक्ति वंचित न रह जाए और इससे संबन्धित रिपोर्ट पोर्टल पर समय से अपलोड कर दी जाए। जिलाधिकारी ने अस्सी घाट, चितरंजन पार्क और चौक पर 24 घंटे एंबुलेंस सेवा की उपलब्धता के बाद अब राजघाट पर भी एंबुलेंस सेवा के लिए निर्देशित किया। उन्होंने प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत पहली बार गर्भवती महिला को तीन किश्तों में मिलने वाली 5000 रुपये की धनराशि की दूसरी और तीसरी किश्त का भुगतान जल्द से जल्द किया जाए। सभी गर्भवती महिलाओं और टीबी के मरीजों की शत-प्रतिशत एचआईवी की जांच की जाए।
बैठक का संचालन मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ वीबी सिंह ने किया। उन्होने विभिन्न कार्यक्रमों की प्रगति रिपोर्ट, उपलब्धियों एवं कमियों पर प्रकाश डाला।
इस अवसर पर प्रमुख चिकित्साधीक्षक, समस्त मुख्य चिकित्साधीक्षक, समस्त डिप्टी सीएमओ व एसीएमओ, जिला क्षय रोग अधिकारी, जिला कुष्ठ रोग अधिकारी, डीएचईआईओ, एनडीआरएफ़ कमांडेंट, 28 यूपी गर्ल्स एनसीसी कमांडेंट, यूपी ईएमई एनसीसी आईटी बीएचयू के कमांडेंट, 7 यूपी नवल एनसीसी कमांडेंट, जिला मलेरिया अधिकारी, एमओआईसी, डीसीपीएम, डीईआईसी मैनेजर, सीडीपीओ, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, यूनिसेफ, डबल्यूएचओ व यूएनडीपी के जिला प्रतिनिधि, नेहरू युवा केंद्र के जिला समन्वयक आदि लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *