logo
नाबालिग लड़की को भगाने में मिली सजा
 

वाराणसी। नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर भगाने में आरोप साबित होने पर बुधवार को अदालत ने फूलपुर थाना क्षेत्र के हमीरापुर गांव निवासी अभियुक्त धर्मेंद्र तिवारी को दंडित किया। फास्टट्रैक कोर्ट (प्रथम) के न्यायाधीश नीरज कुमार श्रीवास्तव ने धर्मेंद्र तिवारी को चार साल के कठोर कारावास एवं पांच हजार रुपया जुर्माने की सजा सुनाई। जुर्माना न देने पर अभियुक्त को तीन माह अतिरिक्त कारावास की सजा भुगतनी होगी।

अभियोजन पक्ष के अनुसार फूलपुर थाना क्षेत्र की रहने वाली 13 वर्षीय नाबालिग लड़की छह अक्टूबर 2013 की शाम में गायब हो गई। काफी खोजबीन के बाद उसका पता नहीं चला तो घरवालों ने स्थानीय पुलिस को सूचना दी। दौरान पड़ताल जानकारी मिली कि गनेश मिश्रा, पियूष मिश्रा,नन्हकू मिश्रा और धर्मेंद्र तिवारी नाबालिग लड़की को बहला-फुसलाकर को भगा ले गए हैं। पुलिस ने सात मई 2014 को धर्मेंद्र तिवारी के खिलाफ अदालत में आरोपपत्र दाखिल कर दी और शेष आरोपित के खिलाफ विवेचना जारी रखा। पीड़िता और गनेश मिश्रा का पुलिस अब तक पता नहीं लगा सकी है।