logo
कांग्रेस और उसके नेता देश के लिये ‘एनपीए’ की तरह: नकवी
 

पूर्व केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद की पुस्तक ‘सनराइज ओवर अयोध्या, नेशनहुड इन आवर टाइम्स’ का जिक्र करते हुये केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कांग्रेस और उसके नेता देश की जनता के लिये नॉन परफार्मिंग एसेट (एनपीए) की तरह है जिनके बयान अथवा लेखों को कोई गंभीरता से नहीं लेना चाहता।लखनऊ के अवध शिल्पग्राम में आयोजित ‘हुनर हाट’ का शुभारंभ के अवसर पर पत्रकारों से बातचीत करते हुये नकवी ने गुरूवार को कहा कि कांग्रेस के नेता जबरदस्त निराशा और हताशा के शिकार है। उन्हे पार्टी के अंदर कोई भाव नहीं दे रहा और बाहर उनका कोई मोल नहीं है। यह कहा जाये कि कांग्रेसी नेताओं का कोई मोलभाव नहीं है और समूची कांग्रेस देश के लिये एनपीए की तरह है जो जनता का विश्वास पूरी तरह खो चुकी है तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी।

एक सवाल के जवाब में उन्होने कहा कि जब भी अपराध अथवा संप्रदाय को राजनीति का चोला पहनायेंगे तो उसका हाल कांग्रेस द्वारा गठित की गयी सच्चर कमेटी की तरह होगा जिसका कोई भी लाभ अल्पसंख्यक वर्ग को नहीं मिल सका। भाजपा सभी वर्गो के विकास और सशक्तिकरण की दिशा में काम करने में विश्वास करती है।देश की आजादी में पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना का नाम लेने के समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव के बयान पर पलटवार करते हुये केन्द्रीय मंत्री ने कहा “ जिन्ना भारत के लिये खलनायक था, खलनायक है और भविष्य में भी रहेगा। कुछ नेता जिन्ना को हीरो की तरह पेश कर रहे है जो दुर्भाग्यपूर्ण है। देश के बंटवारे के सूत्रधार को देश हमेशा खलनायक के तौर पर याद करेगा।”

उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के तौर पर देश सुरक्षित हाथों में है। देश के सम्मान,स्वाभिमान और सुरक्षा के दायित्व को मौजूदा सरकार बखूबी के साथ निभा रही है और कई मौकों पर उसने इसे सिद्ध भी किया है।राम मंदिर के निर्माण को देश के लिये गौरव का विषय बताते हुये नकवी ने कहा कि जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण पूरा देश चाहता था जिसे नरेन्द्र मोदी सरकार ने संभव कर दिखाया है।गौरतलब है कि अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि विवाद के ऐतिहासिक फैसले को नौ नवंबर को दो साल पूरे होने के अवसर पर बुधवार को कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने अपनी किताब ‘सनराइज ओवर अयोध्या, नेशनहुड इन आवर टाइम्स’ का विमोचन किया था। पुस्तक में हिंदुत्व की तुलना आतंकी संगठन आईएसआईएस और बोको हरम से की थी। उन्होने लिखा है कि आज हिंदुत्व का राजनीतिकरण हो रहा है।