logo
गांधी-शास्त्री के पदचिह्नों पर चलकर बनाये जीवन सफल - प्रीतेष कुमार त्रिपाठी
 

गांधी जयंती पर्व जनपद में धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। सरकारी, गैर सरकारी संस्थाओं, शिक्षण संस्थाओं आदि में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं माटी के लाल पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के चित्रों का अनावरण व माल्यार्पण हुआ। बापू जी के प्रिय भजन रामधुन का गायन, स्वच्छता विषयक कार्यक्रम आयोजित हुए। जगापट्टी के सचिवालय पर गांधी जी को माल्यार्पण करके राष्ट्रीय हिन्दू भगवा वाहिनी के प्रदेश मंत्री प्रीतेष कुमार त्रिपाठी ने सभागार में गांधी जी एवं शास्त्री जी के चित्र का अनावरण कर माल्यार्पण किया। अपने संबोधन में प्रदेश मंत्री प्रीतेष  त्रिपाठी ने सभी को गांधी जयंती की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उक्त दोनों महापुरुषों के आदर्शों से सीख लेकर हम सभी अपने जीवन शैली को सरल व मृदुभाषी बनाएं। स्वच्छता में विशेष योगदान दें। अपने घर, मोहल्लों, ऑफिस व आसपास क्षेत्र में स्वच्छता का वातावरण बनाएं। तीसरा अपने दायित्वों का निर्वहन अच्छे से करें। दोनों महापुरुषों के कृतित्व व व्यक्तित्व यह संदेश देते हैं कि शारीरिक कद काठी से मानसिक प्रबल नैतिक इच्छाशक्ति ज्यादा प्रभावी होती है।  उन्होंने आगे कहा कि अहिंसा के रास्ते मास मोबलाइजेशन, रंगभेद के खिलाफ आवाज उठाना वह भी बड़ी ताकतों के विरुद्ध, यह दृढ़ इच्छाशक्ति से हुआ। इन्ही सबसे गांधीजी राष्ट्रपिता, महात्मा, बापू हुए।  विदेगों के चिंतक, फिलॉसफर गांधी जी को अपने विचारों में जोड़ते हैं। शास्त्री जी ने उस समय देश में खाद्यान्न की दिक्कत व विदेशी आक्रमकता के खतरे के दृष्टिगत "जय जवान जय किसान" का दूरदर्शी नारा देकर जनमानस को प्रोत्साहित किया था।

Lal Bahadur Shashtri Jayanti