logo
लैपटॉप, टेबलेट वितरण सही व पारदर्शिता से कराएं-उप मुख्यमंत्री

आगामी बोर्ड परीक्षा के केंद्र निर्धारण हेतु स्कूलों की आवश्यक व्यवस्थाएं देख ले

 

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री डॉ0 दिनेश शर्मा ने शुक्रवार को सर्किट हाउस में शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार में बिना किसी दबाव व सिफारिश के, बल्कि अभ्यर्थी की योग्यता और पात्रता पर पारदर्शिता से लाखों नियुक्ति हुई है। अभी हाल में वाराणसी मंडल में 1645 प्रवक्ताओं की नियुक्ति हुई है। उपमुख्यमंत्री डॉ0दिनेश शर्मा ने जनपदों के जिला विद्यालय निरीक्षकों से नवनियुक्त प्रवक्ताओं की जॉइनिंग करने के बारे में पूछताछ की। संस्कृत विद्यालयों में योग्य संस्कृत अध्यापकों की नियुक्ति हुई है।

मंडलीय अधिकारियों ने बताया कि काफी संख्या में एलटी, प्रवक्ता व संस्कृत शिक्षकों की नियुक्ति हुई है, जिससे अब मानदेय पर रखने की आवश्यकता भी नहीं पड़ेगी। उन्होंने मा0 न्यायालयो में चल रहे प्रकरणों के बारे में भी पूछताछ की। उपमुख्यमंत्री ने महाविद्यालयों में लैपटॉप एवं टेबलेट वितरण के संबंध में पूछताछ करते हुए सही व पारदर्शिता के साथ वितरण कराने के निर्देश दिए। आगामी बोर्ड परीक्षाओं हेतु केंद्रों के निर्धारण पर उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि सरकारी कॉलेज व ऐडेड कॉलेज को प्राथमिकता पर ले। विशेष आवश्यकता पर स्ववित्तपोषित को ही लिया जाए और यह देख ले कि परीक्षा केंद्र कॉलेजों में चहारदिवारी, जनरेटर/इनवर्टर, सीसीटीवी, पुरुष व महिला के अलग-अलग शौचालय, कंट्रोल रूम आदि आवश्यक व्यवस्थाएं उपलब्ध हो। उपमुख्यमंत्री ने स्पष्ट निर्देश दिए कि हर कार्य सही, निष्पक्ष व पारदर्शिता से करें। किसी दबाव या सिफारिश से कोई कार्य नियम विरुद्ध कतई नहीं होना चाहिए। उन्होंने काशी विद्यापीठ, संपूर्णानंद संस्कृत यूनिवर्सिटी उच्च शिक्षा अधिकारी जिला विद्यालय निरीक्षक से उनकी दिक्कतों के बारे में पूछताक्ष की।