logo
मां गंगा भारतीय संस्कृति की मेरुदंड और मानवता की प्राण हैं-अमरीश
 

वाराणसी । पतित पावनी मां गंगा भारतीय संस्कृति की मेरुदंड हैं और मानवता की प्राण हैं। जिस प्रकार मनुष्य के शरीर के मेरुदंड के किसी छोटे हिस्से में भी यदि विकृति आ जाए तो मनुष्य का पूरा शरीर ही निष्क्रियता की स्थिति में पहुंच जाता है,वही बात मां गंगा के ऊपर लागू होती है। गंगोत्री से निकलकर गंगासागर तक की यात्रा में मां गंगा और उनकी सहायक नदियों और नालों के कारण ही हमारे देश के लोगों का भरण पोषण हो रहा है। कृषि कार्य हो रहे हैं। मनुष्यों के साथ ही नाजाने कितने पशु पक्षियों और जलीय जन्तुओं को जीवन प्राप्त हो रहा है। मां गंगा और उनकी सहायक नदियों के कारण ही भूगर्भ जल भंडार भरा हुआ है।

परन्तु अब ऐसी स्थितियां उत्पन्न होती दिख रही है, जिसमें मां गंगा के साथ ही उनकी सहायक नदियों सहित तालाबों पर संकट घिरता जा रहा है। जल प्रदूषण के साथ-साथ तालाब सूख रहे हैं।इसलिए इनके संरक्षण के बिना, मनुष्यों पशु- पक्षियों और पेड़-पौधों सहित पर्यावरण की रक्षा संभव नहीं है। जल प्रदूषण रोकने और जल संरक्षण के उद्देश्यों को लेकर सन 1992 में गंगा और उसकी सहायक नदियों सहित पर्यावरण को संरक्षित करने के उद्देश्य से 'गंगा समग्र'की स्थापना किया गया।

उक्त विचार बाबतपुर स्थित पंडित दीनदयाल उपाध्याय इंटरमीडिएट कॉलेज में आहूत काशी जिला गंगा समग्र इकाई के विस्तारीकरण की बैठक मैं प्रांतीय संगठन मंत्री अमरीश  द्वारा व्यक्त किया गया। बैठक में प्रांतीय संयोजक अमिताभ जी ने गंगा समग्र आयामों और कार्यों की जानकारी दिया बैठक को काशी जिले के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के जिला संचालक आनंद जी जिला प्रचारक बृजेश जी ने भी संबोधित किया। मैं बैठक में गंगा समग्र के जिला संयोजक दिवाकर द्विवेदी द्वारा जिले की कार्यकारिणी को विस्तार देते हुए विकासखंड बड़ागांव, पिंडरा और हरहुआ के प्रतिनिधियों को भी शामिल किया गया।

दायित्व निर्धारण के क्रम में रणजीत सिंह को जिला कार्यकारिणी का संरक्षक, चंद्र प्रकाश दुबे एवं अनीश पाठक को जिला सहसंयोजक, जनार्दन गौड़, श्याम धर मिश्र, मंगल सिंह प्रधान, प्रशांत त्रिपाठी को जिला कार्यकारिणी का सदस्य चुना गया। मनोज कुमार पांडे को संयोजक एवं मनोज कुमार सिंह को बड़ागांव विकासखंड का सहसंयोजक चुना गया। जगन्नाथ सिंह को संयोजक एवं सत्येंद्र उपाध्याय को पिण्ड्रा विकासखंड का सहसंयोजक चुना गया। जय प्रकाश दुबे को संयोजक एवं राज नारायण पटेल को हरहुआ विकासखंड का सहसंयोजक चुना गया। बैठक में अनेकों लोगों की उपस्थिति रही। अंत में कालेज के प्रधानाचार्य ओम प्रकाश दुबे द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के साथ बैठक का बैठक का समापन हुआ।