logo
मुलायम का नाम ना तो स्टार प्रचारकों में होगा ना वो रैली को करेंगे संबोधित
अखिलेश इस बार मुलायम को चुनावी अखाड़े से रखेंगे बाहर 
 
अखिलेश अपनी राजनीति चमकाने के लिए मुलायम सिंह को कर रहे किनारे 

लखनऊ  :  बीते करीब पचास साल से यूपी तथा देश की राजनीति में अहम भूमिका निभाने वाले मुलायम सिंह यादव की इस बार के विधानसभा चुनावों में कोई ख़ास भूमिका नहीं होगी। समाजवादी पार्टी (सपा) के मुखिया अखिलेश यादव अपने पिता मुलायम सिंह को इस बार चुनावी अखाड़े से बाहर ही रखेंगे। ऐसे में अब मुलायम सिंह का नाम ना तो पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची में होगा और ना ही वह कोई रैली को ही संबोधित करंगे। मुलायम सिंह की बढ़ती उम्र के और उनके लीक से हटकर बयान देने के चलते अखिलेश उन्हें अपनी चुनावी रणनीति से दूर रख रहें हैं। सपा के लिहाज से इस बार के विधानसभा चुनाव अखिलेश यादव के राजनीतिक कौशल, पहचान और प्रसार का चुनाव है और मुलायम सिंह इन चुनावों से दूर ही रहेंगे। 

मुलायम सिंह यादव के समर्थकों के लिए यह अच्छी खबर नहीं हैं। लेकिन अखिलेश यादव के फैसले के चलते पार्टी में सब खामोश हैं। खुद मुलायम सिंह के लिए अपने से राजनीति से दूर रखना आसान नहीं है। मुलायम सिंह पहलवान हैं। कुश्ती के भी और राजनीति के भी। बड़े-बड़ों को उन्होंने दोनों अखाड़ों में चित किया है। परन्तु पहलवानों का जीवन बढ़ती उम्र के साथ कठिन होता जाता है। वह परिवार तथा बेटे-बहू के भरोसे हो जाते हैं। अब मुलायम सिंह इसी दौर से गुजर रहे हैं। वह अब पब्लिक को एकजुट करने के लिए पहले जैसी भागदौड़ नहीं कर सकते। यही नहीं अब वह अपने विरोधी नेता की तारीफ़ भी खुल कर कर देते हैं। जिसका नुकसान पार्टी को उठाना पड़ता है। तीन साल पहले ऐसा हो चुका है। तब 16वीं लोकसभा के अंतिम दिन मुलायम सिंह यादव के इस व्यवहार को देश भर ने देखा था। उस दिन मुलायम सिंह यादव ने लोकसभा की आख़िरी कार्यवाही के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक बार फिर प्रधानमंत्री बनने की शुभकामनाएं दी थी। मुलायम सिंह यादव जिनके हर शब्द में राजनीतिक दांव छिपे होते हैं पर उनके इस कथन से सोनिया गांधी और अखिलेश यादव बहुत ही असहज हुए थे। 

जबकि राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि राजनीति में रिश्ते बनाने में माहिर मुलायम सिंह के इस कथन से अखिलेश को असहज होने की जरूरत नहीं थी क्योंकि राजनीति में रिश्ते बनाने और निभाने में मुलायम का कोई जोड़ नहीं हैं। यूपी की राजनीति के जानकारों का कहना है कि राजनीतिक दुश्मनों को भी मुलायम ने गले लगाया। संजय गांधी के दौर में इटावा के ही बलराम सिंह यादव की तूती बोलती थी। मुलायम से उनका छत्तीस का आंकड़ा था। उन्हीं बलराम सिंह को मुलायम ने पार्टी में लिया। पूर्व पीएम चंद्रशेखर को कई बार बलिया से जिताने में मुलायम ने मदद की। अमेठी और रायबरेली में भी प्रत्याशी नहीं खड़े किए। बीएसपी के संस्थापक कांशीराम को भी पहली बार संसद में मुलायम सिंह ने ही इटावा से भेजा था। मुलायम सिंह के ऐसे व्यवहार के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उनका नाम सम्मान से लेते हैं। यह सब जानने के बाद भी अखिलेश यादव ने 16वीं लोकसभा में दिए गए मुलायम सिंह यादव के भाषण को आधार बनाकर उन्हें इस बार के विधानसभा चुनावों से दूर रखने का फैसला किया ताकि इस बार के चुनावों में मुलायम सिंह ऐसा कोई बयान ना दे सकें।  
    
सांसद मुलायम सिंह के बिना इस विधानसभा चुनाव में अखिलेश का चुनाव मैदान में उतरना नुकसान भी पहुंचा सकता है। इसकी वजह है मुलायम सिंह का प्रदेश भर में तैयार की गई अपने चहेतों की फ़ौज। अब अगर इन लोगों के बीच चुनावों के दौरान मुलायम सिंह ना पहुंचे तो उसका नुकसान पार्टी को हो सकता है। पार्टी नेताओं के अनुसार, मुलायम सिंह ने अपनी राजनीति के शुरुआती दौर में मोटरसाइकल, साईकिल और पुरानी जीप से पूरे प्रदेश में घूमे थे। रात दिन जागकर उन्होंने पूरे  यूपी में अपना नेटवर्क बना था। जिसके चलते ही उन्हें धरतीपुत्र भी कहा जाता  हैं। मुलायम को उनके चाहने वाले नेताजी के नाम से भी बुलाते हैं। अखिलेश यादव भी उन्हें नेताजी ही कहते हैं। कई साल पहले इटावा, औरैया, कन्नौज, फर्रुखाबाद, एटा, मैनपुरी आदि इलाकों में उन्हें मंत्री जी के नाम से भी पुकारा जाता था।

पहली बार सीएम बनने के बाद समर्थकों ने उन्हें नेताजी कहना शुरू किया। राजनीति के शिखर पर पहुंचे ऐसे नेताजी को इन चुनावों से दूर रखने का निर्णय मुलायम का अकेलापन ही बढ़ाएगा। आज मुलायम सिंह से ज्यादा इसे कौन महसूस कर रहा होगा? लेकिन राजनीति भी कई कठोर फैसले कराती है, अखिलेश यादव के लिए इस बार के विधानसभा चुनाव उनके राजनीतिक कौशल, पहचान और प्रसार को साबित करने का चुनाव है। अखिलेश को लगता है कि अब अगर वह अपने पिता मुलायम सिंह की छाया के बाहर नहीं निकले तो वह कुछ साबित नहीं कर पाएंगे। इसलिए उन्होंने अपने पिता की बढ़ती उम्र की ओट लेकर अब मुलायम सिंह को चुनावी मैदान से बाहर रखकर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। अखिलेश के इस निर्णय पर पार्टी के तमाम नेता सहमत नहीं हैं। इनका कहना है बीते पचास बर्षों से मुलायम सिंह को यूपी की राजनीति में किनारे करने का जो कार्य उनके विरोधी नहीं कर सकें, अब अपनी राजनीति को चमकाने के लिए वह कार्य अखिलेश कर रहें हैं। अब देखना है कि अखिलेश यादव अपने मकसद में कितना सफल होते हैं?