logo
रिटायर्ड आपूर्ति निरीक्षक को तीन साल की सजा
 

वाराणसी। विशेष न्यायाधीश (भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम) अशोक कुमार सिंह यादव ने रिटायर्ड आपूर्ति निरीक्षक प्रमोद कुमार दूबे को तीन साल के सश्रम कारावास एवं आठ हजार रुपया जुर्माने की सजा सुनाई। विशेष लोक अभियोजक विक्रमशील चतुर्वेदी के अनुसार दुद्धी क्षेत्र सुपाचुवां ग्राम निवासी संतोष कुमार गुप्ता ने 27 जुलाई 2011 को भ्रष्टाचार निवारण संगठन में शिकायत की थी। आरोप था कि वह सरकारी सस्ते गल्ले का दुकान चलाता है। इस दौरान आपूर्ति निरीक्षक प्रमोद कुमार दूबे हर माह घुस के रुप में चीनी,मिट्टी का तेल तो कभी कुछ रुपए उससे लेते रहते थे। 26 जुलाई 2011 को कोटा का राशन निकासी के लिए कार्यालय गया तो प्रमोद कुमार दूबे उससे 17 सौ रुपया मांगने लगे। प्रमोद कुमार दूबे के दबाव बनाने पर उसने पास में मौजूद पांच सौ रुपया दे दिया और बाकी रकम बाद में देने का आश्वासन दिया। संतोष की शिकायत का पुष्टि होने पर एक अगस्त 2011 को भ्रष्टाचार निवारण संगठन की ट्रैप पार्टी ने 12 सौ रुपया रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ लिया।