logo
मामले को बेवजह तूल दिया जा रहा है:प्रो.आफताब

उर्दू विभाग के हेड ने कहा जांच कमेटी के समक्ष रखूंगा बात

 

वाराणसी।काशीहिन्दू विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग के वेबिनार के पोस्टर को लेकर उपजे विवाद पर विभागाध्यक्ष प्रो.आफताब अहमद ने बताया कि छात्रों ने ही पोस्टर तैयार किया था इसमें अल्लामा इकबाल की  तस्वीर भूलवश लग गयी।उन्होंने आगे कहा कि इस मामले को बेवज़ह तूल दिया जा रहा है। इस वेबिनार को लेकर सोशल मीडिया पर अनावश्यक बातें फैलाई जा रही है जो गलत हैं। उर्दू विभाग विश्वविद्यालय का ही अंग है। यहां जो भी कार्यक्रम होते हैं वे नियम कानून के दायरे में होते हैं।अल्लामा इकबाल को उर्दू व हिंदी में भी पढाया जाता है।उनका जन्म 9 नवंबर 1877 में हुआ था उसी उपलक्ष्य में इस दिन को उर्दू दिवस के रूप में मनाया जाता है।

विभागाध्यक्ष ने इस विवाद के पटाक्षेप को जांच कमेटी गठित हो गयी है। कमेटी के सामने सारे तथ्य रखें जाएंगे जिससे सारी स्थिति स्पष्ट हो जाएगी। देर शाम कला संकाय में इस मुद्दे को गरमाने के लिये किसी ने पोस्टर चस्पा कर दिये। पोस्टर में भड़काने वाले शब्द का इस्तेमाल किया गया है। उधर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के राष्ट्रीय मंत्री डॉ इफ्तिखार अहमद ने प्रकरण की निंदा करते हुए कहा कि मालवीय जी की जगह अल्लामा इकबाल की फोटो लगाना गलत है। ये कोई छोटी भूल नही हैं। ऐसी शरारत करने वालों पर कार्रवाई होनी चाहिए।